ऑटो स्वीप खाता | ऑटो स्वीप फैसिलिटी सेविंग बैंक अकाउंट क्या होता है? कैसे उठाएं लाभ?

यदि आप के पास पहले से ही सेविंग बैंक अकाउंट खाता है तो ऐसे मैं आपके खाते में जो अमाउंट पड़ा है चाहे वह 20000 हो या फिर 10000 लोग या फिर 5000 क्यों ना हो वह आपके लिए कोई पैसा नहीं कमा रही है ,और बेकार पड़ी है । लेकिन ऐसा भी स्कीम है जिसके तहत आप पैसा ही पैसा कमा सकते हैं और फिक्स डिपाजिट से भी ज्यादा ब्याज कमा सकते हैं। सेविंग अकाउंट से भी ज्यादा ब्याज कमा सकते हैं। भारत के एक बेहतर खाता में से एक खाता होता है ऑटो स्वीप खाता या ऑटो स्वीप फैसिलिटी सेविंग अकाउंट । ऐसे में होता क्या है कि आप अपने इन बैंक में पड़े हुए पैसों से एफडी और सेविंग बैंक अकाउंट से भी ज्यादा पैसा कमाते हैं। स्वीप इन डिपॉजिट में जमा कराकर आप ज्यादा से ज्यादा ब्याज प्राप्त करते हैं।

स्वीप इन डिपॉजिट अकाउंट में में जमा करा कर आप ज्यादा से ज्यादा ब्याज प्राप्त करते हैं

क्या है sweep-in डिपॉजिट?

ज्यादातर बैंक आपको स्वीप इन फैसिलिटी सेविंग बैंक अकाउंट के तहत ही आपको प्रदान करते हैं जिसके लिए 1 साल से लेकर के 5 साल या उससे ज्यादा का भी समय होता है। आपके दिए गए समय के अनुसार ही इस डिपॉजिट पर ब्याज दर भी तय होता है इस डिपाजिट में जितने पैसे रखते हैं आप उतना ही ज्यादा ब्याज मिलता है आपको।

मान लीजिए बैंक की जमा एक निश्चित लिमिट जब आपके स्वीप इन फैसिलिटी में चली जाती है तो जितना लिमिट के ऊपर का अमाउंट होता है वह एफडी में कन्वर्ट हो करके आपको अच्छा ब्याज देता है । इसके लिए ब्याज दर तय होता है और उसी आधार पर आपको ब्याज मिलता है । स्वीप इन फैसिलिटी में कस्टमर को सेविंग बैंक की जमा राशि पर अच्छा खासा ब्याज मिल जाता है । स्वीप इन फैसिलिटी के अंतर्गत जितना भी अमाउंट कन्वर्ट हुआ वह अपनी में बदलने पर तय ब्याज दर मिलता है आपको।

या फिर यदि आसान शब्दों में कहें तो स्वीप इन एफडी खाते में जो भी निर्धारित रकम पड़ी हुई है वह डी में बदल जाती है जैसे कि मान लीजिए आप के मौजूदा खाते में ₹100000 पड़े हुए हैं और आपने जो सीमा निर्धारित की है वह ₹25000 तक की है तो ऐसे हैं ₹75000 एफडी में कन्वर्ट हो जाता है और उस पर आपको ब्याज दर मिलता है, इसमें ब्याज दर आपको 6.75% से ज्यादा ही मिलता है अलग-अलग बैंक एफडी स्वीप इन फैसिलिटी की सेवाएं अलग-अलग आधार पर देती हैं अपने कस्टमर्स को।

पीपीएफ में निवेश एक अच्छा विकल्प

निर्धारित सीमा या फिर थ्रेसोल्ड लिमिट क्या होता है

भारत के अधिकाधिक बैंक ₹25000 से लेकर ₹100000 तक के बीच इस सीमा को ज्यादा तवज्जो देते हैं , या फिर आप अपने हिसाब से भी इसकी सीमा निर्धारित कर सकते हैं। कम सीमा तो ज्यादा समय कमाई साथ ही न्यूनतम बैलेंस का भी ध्यान आपको रखना होता है इसमें।

18 साल के होते ही खुलेगा जन धन बैंक अकाउंट-न्यूज़

न्यूनतम समय सीमा क्या होती है?

स्वीप इन एफडी न्यूनतम समय सीमा का ध्यान रखना चाहिए आपको इस एफबी में पैसा लगाते समय न्यूनतम 30 दिन तक भी आप अपना पैसा रख सकते हैं।

स्वीप इन फैसिलिटी अवधि कितने समय के लिए होता है?

स्वीप इन फैसिलिटी मैं आप अपने समय सीमा का अपनी इच्छा अनुसार चुनते हैं। बैंकों के अनुसार ऑटो स्वीप अकाउंट की समय सीमा 1 साल ही होती है । ऐसे में यदि आप समय से पहले तोड़ लेते हैं तो आपको पेनाल्टी भी देनी पड़ती है बैंक को । इसमें से 0.50% या फिर 1.0% का पेनाल्टी होता है। एक से ज्यादा स्वीपिंग फैसिलिटी फिक्स्ड अकाउंट रखकर आप फायदा कमा सकते हैं।

कैसे कमाए ज्यादा स्वीप इन फैसिलिटी अकाउंट से?

स्वीप इन फैसिलिटी अकाउंट से ज्यादा पैसा कमाने के लिए आपको पैसा निकालना नहीं चाहिए । क्योंकि आपके पैसे निकालने पर आपका एफडी का अमाउंट भी कम हो सकता है, हो जाता है। और आपका ब्याज भी कम हो जाता है, तो इसके बाद आपको मिल रही ब्याज दर काफी कम हो जाती है।

आधार कार्ड पैन कार्ड लिंक डेट एक्सटेंडेड

क्या इस पर टैक्स कम हो सकता है स्वीप इन फैसिलिटी पर?

स्वीप इन फैसिलिटी अकाउंट पर टैक्स कम करने के लिए सेक्शन 80tta के अंतर्गत ₹10000 तक का आप टैक्स फ्री ब्याज कमा सकते हैं लेकिन फिर भी जितना भी टैक्स होता है वह आपको पे करना पड़ता है

कैसे होता है स्वीप इन फैसिलिटी

स्वीप इन फैसिलिटी प्राप्त करने के लिए आप इन बातों का ध्यान रखना ज्यादा फायदेमंद रहेगा।

  • अपने किसी भी बचत खाते को फिक्स डिपाजिट खाते के साथ लिंक करना होता है स्वीप इन फैसिलिटी का लाभ उठाने के लिए
  • स्वीप इन फैसिलिटी के लिए आपको एक लिमिट तय करनी होती है जिससे बचत खाते में बचा रह गया कोई भी अमाउंट फिक्स डिपाजिट खाते में तुरंत ही ट्रांसफर होकर आपके लिए ब्याज कमाने लगती है
  • ज्यादातर बैंक नेट बैंकिंग के माध्यम से आवेदन की सुविधा प्रदान करते हैं
  • ऑफलाइन या फिर शाखा में विजिट करके भैया आप यह सुविधा प्राप्त कर सकते हैं बैंक से
  • स्वीप इन फैसिलिटी के अंतर्गत आपको अपने f&d का समय सीमा तय करना होता है

एसबीआई जीरो बैलेंस खाता ऐसे खुलवाएं

एग्जांपल फॉर सेविंग फैसिलिटी

स्वीप इन फैसिलिटी को समझने के लिए आपको समझना ऐसे ही मान लीजिए आपने अपने बचत खाते को अपने फिक्स डिपाजिट खाते से लिंक किया और साथ में स्लीपिंग फैसिलिटी का चयन किया है और आप की लिमिट 40000 थी तो आपके बचत खाते में ₹40000 से जितनी ज्यादा राशि होगी वह अमाउंट फिक्स डिपाजिट खाते में तुरंत के तुरंत ट्रांसफर होकर ब्याज कमाने लगती है

तो ऐसे में मां लो यदि ₹25000 बैलेंस है और कहीं से आप ₹30000 और जोड़ देते हैं, तो ऐसे में जो आपका पूरा बैंक बैलेंस हो चुका है वह है ₹55000 , आपने लिमिट ₹40000 चुना था और अभी जो आपका बैंक बैलेंस हो ₹55000 है ऐसे में जो ₹15000 अधिक हो चुके हैं लिमिट से ज्यादा, वह आपके स्वीप इन फैसिलिटी में ट्रांसफर होकर आपके लिए ब्याज कमाने लग जाएंगे।

एटीएम से न निकले पर खाते से पैसा काट? क्या करें ?

कौन कौन बैंक स्विफ्ट फैसिलिटी का ऑप्शन देता है

भारत में ज्यादातर बैंक आपको स्वीप इन फैसिलिटी की सुविधा देते हैं इसके अंतर्गत जितने भी बैंक हैं चाहे वह एचडीएफसी हो आईसीआई बैंक हो, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया हो, पंजाब नेशनल बैंक , बैंक ऑफ बड़ौदा हो, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, एक्सिस बैंक या देश के ज्यादातर बैंक आपको स्वीप इन फैसिलिटी की सुविधा उपलब्ध करवाते हैं

कैसे पाएं 60,000 तक लोन 90 सेकंड में लोन मोबिक्विक से

स्वीप इन फैसिलिटी सुविधा के फायदे क्या-क्या है?

स्वीप इन फैसिलिटी सुधारक लेने के लाभ लाभ लेने के लिए आपको फिक्स्ड डिपॉजिट और सेविंग बैंक अकाउंट को लिंक करना होता है

  • न्यूनतम समय सीमा 1 साल का होता है
  • अधिकतम समय सीमा स्वीपिंग फैसिलिटी के लिए 5 साल का होता है
  • न्यूनतम राशि ₹10000 या फिर ₹25000 भी हो सकता है
  • मैक्सिमम लिमिट जमा करने की सीमा कोई भी नहीं है
  • 80tta के तहत ₹10000 तक बचा सकते हैं टैक्स से
  • यदि यह फैसिलिटी तोड़ा गया तो फिर पेनाल्टी देना पड़ता है आधा प्रतिशत से लेकर के 1% तक।
  • कई बैंक ऑटो स्वीप फैसिलिटी के लिए आपको कोई विशेष दस्तावेज नहीं देते (प्रूफ)
  • कोई भी व्यक्ति संयुक्त रुप से या फिर अकेले भी स्वीप इन फैसिलिटी अकाउंट का लाभ उठा सकता है
  • समय से पहले खाता बंद कर सकते हैं आप
  • कोई भी व्यक्ति स्वीप इन फैसिलिटी का अकाउंट खुलवा सकता है या इस सुविधा का लाभ ले सकता है
  • स्वीप इन फैसिलिटी सुविधा का लाभ लेने के लिए कोई विशेष योग्यता नहीं है
  • अपने पहले से चल रही सेविंग बैंक अकाउंट पर आप स्वीप इन फैसिलिटी के सुविधा ले सकते हैं।
  • फिक्स डिपाजिट के मुकाबले अच्छा रिटर्न मिलता है 6% , 7% या फिर 8% तक भी ब्याज मिलता आपको।

फ्लिपकार्ट बाई नाउ पे लेटर-₹70000 की क्रेडिट लिमिट-न्यूज़

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *