क्या क्रेडिट स्कोर बढ़ाया जा सकता है पर्सनल लोन लेकर

जब भी बात अपने क्रेडिट स्कोर को बढ़ाने की आती है तो ऐसे में ज्यादातर काम आता है कोई सा भी लोन और समय-समय पर उसको पे करना। ज्यादातर लोगों के मन में एक जो सबसे बड़ी बात सवाल होती है वह होती है कि क्या क्रेडिट स्कोर को पर्सनल लोन की मदद लेकर के बढ़ाई जा सकती है? तो जाहिर सी बात है एक साधारण उत्तर निकल कर आती है कि हां कहीं न कहीं पर्सनल लोन भी मदद करता है आपके एक बेहतर और अच्छे क्रेडिट स्कोर बढ़ाने के लिए और ऐसे में यदि आप का क्रेडिट स्कोर काफी बढ़ जाता है तो उस टाइम पर दूसरे किसी क्रेडिट कार्ड या होम लोन या व्हीकल लोन जिसके लिए भी आप अप्लाई करते हैं उसमें आपको कम ब्याज दर देना होता है और जल्दी से जल्दी आपको अप्रूवल मिल जाता है उस लोन के लिए।

बेहतर तरीके से और ढंग से पर्सनल लोन प्रयोग में लाने पर क्रेडिट स्कोर काफी अच्छे से बढ़ जाता है। ऐसा काफी मामलों में देखने को मिला है लेकिन पर्सनल लोन के लिए क्योंकि किसी भी तरीके के गारंटी की जरूरत नहीं पड़ती या किसी गारंटर की जरूरत नहीं पड़ती या कोई प्रॉपर्टी वगैरह को बैंक के या एनबीएफसी के पास नहीं रखना पड़ता, इसके बावजूद भी पर्सनल लोन काफी मददगार होता है आपके क्रेडिट स्कोर को सुधारने में।

यदि आप किसी तरीके के छोटे-मोटे लोन ले करके पछता रहे हैं और साथ ही क्रेडिट कार्ड के बहुत ज्यादा ब्याज दर को चुका चुका कर के थक गए हैं तो मात्र एक ही पर्सनल लोन लेकर के आप अपने क्रेडिट कार्ड के ब्याज या क्रेडिट कार्ड के कर्जे को भी चुका सकते हैं। साथ ही साथ अपनी दूसरी छोटे-मोटे काम भी कर सकते हैं और ऐसे किसी भी दूसरे कर्ज को भी आसानी से चुका सकते हैं वह भी पर्सनल लोन के जरिए पर्सनल लोन हमेशा से एक बेहतर विकल्प रहा है ऐसे लोगों के लिए जो समय समय पर अपना क्रेडिट इसको सुधारने की बात करते हैं।

कैसे पाएं क्रेडिट कार्ड के कर्ज से राहत

पर्सनल लोन की ब्याज दर काफी कम क्रेडिट कार्ड की तुलना में

  • यदि पहले नंबर पर बात करें तो पर्सनल लोन की ब्याज दर काफी कम होती है किसी भी तरीके के क्रेडिट कार्ड की तुलना में
  • पर्सनल लोन काफी आसानी से मिल जाता है दूसरे किसी और लोन की अपेक्षा आजकल तो कई सारे बैंक मिनटों में ही आपको पर्सनल लोन प्रदान कर देते हैं ऐसा ही एक ऍप मोबिक्विक जो कि 90 सेकंड में आपको पर्सनल लोन देता है।
  • पर्सनल लोन का सही से और समय-समय पर भुगतान आपका क्रेडिट इसको सुधारता है
  • अलग-अलग क्रेडिट कार्ड पर लगने वाले ढेर सारे ईएमआई की अपेक्षा आप पर्सनल लोन लेकर के सिंगल EMI से चुका सकते हैं या आपके लिए काफी बेहतर होता है और आपको हां कर्ज मुक्ति भी बनाता है।

यदि एक बार आप अपना सिबिल SCORE अच्छा करने में कामयाब रहते हैं और 760 के ऊपर आप सिविल स्कोर यदि आप बना देते हैं तो पहले के जितने भी आपके पास हाई रेट के ब्याज दर वाले कर्ज़ थे आप उनको अपने दूसरे पर्सनल लोन लेकर के चुका सकते हैं। आपके क्रेडिट स्कोर में सुधार के बाद जो आपको पर्सनल लोन मिलेगा उस पर आपको ब्याज दर काफी कम देना पड़ेगा। तो किसी भी तरीके के ऊंचे ब्याज दर वाले कर्ज को चुकाने के लिए आप दूसरा पर्सनल लोन ले सकते हैं जो कम ब्याज दर पर मिल रहा है। और ऐसे में आप ईएमआई चुकाते जाएंगे और धीरे-धीरे आपका क्रेडिट स्कोर दिन प्रतिदिन बढ़ता जाएगा।

कैसे पाएं 60,000 तक लोन 90 सेकंड में लोन मोबिक्विक से

ऐसे में कई सारी जरूरी चीजें भी हो सकती हैं जो आपके काम में आ सकती हैं सबसे पहले उदाहरण के लिए जितने क्रेडिट कार्ड्स हैं आपके पास ठीक है भी उतनी ही रखिए क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई ना कीजिए ज्यादा क्रेडिट कार्ड ले कर के रख लेना एक घाटे का सौदा हो सकता है आपके लिए

इसके साथ ही जितने भी एनबीएफसीएस हैं उनसे लोन loan lete Samay प्रयास यह करें कि उनसे लेकिन मिलने वाले लोन को अवॉइड करें आप क्योंकि उनका जो ब्याज का दर होता है वह काफी हाई होता है जिसे चुकाने में आपको एड़ी चोटी का जोर लगाना पड़ता है।

यदि आप 6 महीने के भीतर 10, 15 बार नए-नए loan या नए-नए क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई करते हैं, तो आपका क्रेडिट स्कोर डाउन होता जाएगा। क्योंकि उनमें से एक भी हार्ड इंक्वायरी आपके ऊपर बैठ गई तो आप का क्रेडिट स्कोर डाउन हो जाता है। बैंकों को भी लगने लग जाता है आप लोन के प्यासे हैं और ऐसे में बैंक आप पर भरोसा कम करते हैं तो आप यह भी चीज ध्यान में रखें।

अपने हिसाब से लोन ले जितना आप पे कर सकते हैं जब आप EMI को चुनते हैं या तय करते हैं तो आपको अपने हिसाब से EMI तय करना चाहिए जितना आप चुका पाए ऐसे में क्या होता है कि आपको दूसरी भी जरूरतों का ख्याल रखना पड़ जाता है। तो ईएमआई को सोच समझकर खर्च करें या चुनाव करें। यदि आपने काफी ज्यादा कर्ज की राशि ले ली है तो इसके लिए आप ईएमआई को भी काफी ज्यादा दिन तक चला सकते हैं और एक बार जब आपके पास ठीक-ठाक पैसा आए तो 6 महीने या साल भर बाद ही अपना ईएमआई बढ़ाने का फैसला ले सकते हैं इसके लिए बैंक से बात कर सकते हैं ऐसे तमाम बैंक और एनबीएफसी हैं जो ऐसा सुविधा उपलब्ध कराते हैं अपने कस्टमर के लिए।

नियमित तौर पर ईएमआई चुकाते रहने से आप का क्रेडिट स्कोर बढ़ता जाता है समय से पहले ही आप क्रेडिट SCORE सुधारने के लिए समय-समय पर अपना मासिक किस्त भरते रहे । जरूरत पड़ने पर आप ऑटो डेबिट फैसिलिटी भी लगा सकते हैं पर्सनल लोन क्योंकि अनसिक्योर्ड लोन के अंतर्गत आता है इसलिए क्रेडिट स्कोर को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है तो ऐसे में आपको काफी ध्यान रखना होगा।

पर्सनल लोन कब लेना चाहिए आपको

अपने किसी भी कर्जे या लोन को प्रीपेमेंट करके चुकाना दें यदि समय के पहले ही आप चुकाते हैं तो भी थोड़ा बहुत घट जाता है आपका क्रेडिट स्कोर। तो आपको इस चीज को भी ध्यान रखना चाहिए तो किसी भी तरीके के फॉरक्लोज़र या प्रीपेमेंट से हमेशा अपने आप को दूर ही रखें यह भी क्रेडिट स्कोर को हर संभव प्रयास से बढ़ाता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *